hindi poems mukammal kitab hun

Hindi Poems मुक्कमल किताब हूँ

मुक्कमल किताब हूँ

तेरी ही अल्फ़ाज़ हूँ

अधूरा सा खुआब हूँ

पर लाजवाब हूँ

सपनो में जो आई थी

बस जरा सा मुस्कुराई थी

ये देख दिल खुशगवार हुआ

फिर मिलने का जिंदगी भर इंतज़ार हुआ

बे इख़्तेयार प्यार हुआ

न मेरा इज़हार हुआ

न उसका इंकार हुआ

फिर महबूब मेराज हुआ

सारी मोहब्बत एक राज़ हुआ

फिर ये मुकम्मल किताब हुआ ||

Written by:-

Meraj Ibn Sami

Love Shayari नज़रे चुराने की ज़रूरत नहीं

नज़रे चुराने की ज़रूरत नहीं

हम हर रुख की बात जानते हैं

तुम जुबां से कुछ कहो न कहो

हम तुम्हारे दिल की बात जानते हैं ||

Sad Love Shayari कब तक मिला के नज़रे

कब तक मिला के नज़रे चुराती रहोगी

कब तक तुम हमें आज़माती रहोगी

ले जाओ दिल हमारा आशिक़ है ये तुम्हारा

बाते बनाके कबतक इसे बहलाती रहोगी ||

Love Shayari खामोश रहकर कभी प्यार

खामोश रहकर कभी प्यार जताया नहीं जाता

अगर प्यार किसी से हो जाये तो छुपाया नहीं जाता

आशिक़ तो पढ़ लेते है नज़रो की भाषा

इस प्यार को जुबां से बताया नहीं जाता ||

sad love shayari apni suna kar teri

Sad Love Shayari शायरी अपनी सुनाकर तेरी

शायरी अपनी सुनाकर तेरी महफ़िल को

चार चाँद कर देंगे

हम अपने ग़मों को सजाकर

बहार कर देंगे ||

By : Shriya Gupta

love shayari tere isqu ka mere dil

Love Shayari तेरे इश्क़ का मेरे दिल पे

तेरे इश्क़ का मेरे दिल पे ये कमाल हुआ है

हाल मेरा बेहाल उसपे मुश्किल अर्ज़-ए-हाल हुआ है ||

By : Shriya Gupta

love shayari wo taja gulab

Love Shayari वो ताजा गुलाब और खुशबू

वो ताजा गुलाब और खुशबू उनकी उनका साया है

बहुत अजीज और दिल के करीब फिर भी अब तलक पराया है

कभी उतारकर तो देखो अपने गरूर को .. आसमान से

खुदा ने तुम्हे भी किसी से प्यार करने के काबिल बनाया है ||

By : Shriya Gupta

Love shayari तेरे दिल में मुझको जगह मिल ही

तेरे दिल में मुझको जगह मिल ही जाएगी

आखिर तू मेरी झोली में आ ही जाएगी

सर पटक पटक कर मर जायेंगे तेरे आशिक

तू खुद चल कर मेरी बाँहों में आयगी ||

Miss U Shayari मेरी मोहब्बत में वो असर है

मेरी मोहब्बत में वो असर है की याद करोगी

जब दूर जाऊंगा तो मुझे तुम याद करोगी

मैंने दीवानगी में दुनिया को भुलाया है

मेरे साथ गुज़ारे हर एक पल को तुम याद करोगी ||

Romantic Shayari लाखो दीवाने तुम पे मरते हैं

लाखो दीवाने तुम पे मरते हैं

तुम क्या जानो तुम्हारे खातिर कितना तरसते हैं

मगर वो क्या करेंगे हम जैसी मोहब्बत

हम प्यार करते है तो बेशुमार करते हैं ||