sharabi shayari jaam yun hi

Sharabi Shayari जाम तो यू ही बदनाम है

जाम तो यू ही बदनाम है यारों कभी इश्क करके देखो

या तो पीना भूल जाओगे या फिर पी-पी के जीना भूल जाओगे ||

sharabi shayari ab ke sawan me sab ka

Sharabi Shayari अब के सावन में सबका हिसाब कर दूंगा

अब के सावन में सबका हिसाब कर दूंगा

जिसका जो वाकी है वो भी हिसाब कर दूंगा

और मुझे इस गिलास में ही कैद रख वरना

पूरे शहर का पानी शराब कर दूंगा ||

Sharabi Shayari दुनिया से ऊब चुका हूं, कुछ और सांस दे दो

दुनिया से ऊब चुका हूं, कुछ और सांस दे दो
ये दिल बड़ा प्यासा है, कुछ और प्यास दे दो

जीने की तमन्ना थी, तुझे पाने की आरजू थी
अब खो चुका हूं सब-कुछ, चंद और ख्वाब दे दो

हर जाम पी गया मैं, ऐ दर्दे-जिंदगानी
फिर भी बड़ा तरसा हूं, कुछ और शराब दे दो

आबाद इस जहान में बर्बाद सा एक मुसाफिर
है चांद थका-थका सा, कुछ और तलाश दे दो ||

Sharabi Shayari चुप चाप चल रहे थे अपनी मंज़िल की

चुप चाप चल रहे थे अपनी मंज़िल की ओर

फिर ठेके पर नज़र पड़ी

और

गुमराह से हो गये हम ||

Funny Jokes बीवी : जो आदमी रोज शराब पीकर आये उसके

बीवी : जो आदमी रोज शराब पीकर आये उसके
लिए मेरे मन में कोई हमदर्दी नहीं है

पति : जिसे रोज शराब मिल जाये, उसे
तुम्हारी हमदर्दी की जरुरत ही नहीं है ||

Sharabi Shayari तन्हाई में भी कहते है लोग

तन्हाई में भी कहते है लोग

जरा महफ़िल में जिया करो

पैमाना लेके बिठा देते है मैखाने में

और कहते है जरा तुम कम पिया करो ||

Sharabi Shayari तेरी यादों को अपने सीने से लगा लेता हूँ

तेरी यादों को अपने सीने से लगा लेता हूँ

और शाम होते ही मैं दो जाम लगा लेता हूँ ||

Sharabi Shayari नशा हम किया करते है इलज़ाम

नशा हम किया करते है इलज़ाम शराब को दिया करते है

कसूर शराब का नहीं उनका है

जिनका चहेरा हम जाम मै तलाश किया करते है ||

Sharabi Shayari रख ले 2-4 बोतल कफ़न में

रख ले 2-4 बोतल कफ़न में

साथ बैठ कर पिया करेंगे

जब माँगे गा हिसाब गुनाहों का

एक पेग उससे भी दे दिया करेंगे ||