hindi poems mukammal kitab hun

Hindi Poems मुक्कमल किताब हूँ

मुक्कमल किताब हूँ

तेरी ही अल्फ़ाज़ हूँ

अधूरा सा खुआब हूँ

पर लाजवाब हूँ

सपनो में जो आई थी

बस जरा सा मुस्कुराई थी

ये देख दिल खुशगवार हुआ

फिर मिलने का जिंदगी भर इंतज़ार हुआ

बे इख़्तेयार प्यार हुआ

न मेरा इज़हार हुआ

न उसका इंकार हुआ

फिर महबूब मेराज हुआ

सारी मोहब्बत एक राज़ हुआ

फिर ये मुकम्मल किताब हुआ ||

Written by:-

Meraj Ibn Sami

funny shayari tera pyaar kitna

Funny Shayari तेरा प्यार कितना कमीना

तेरा प्यार कितना कमीना है

तुझसे प्यार करने वाली कितनी ज़लील होगी ||

sad shayari sath nibhane ka wada

Sad Shayari साथ निभाने का वादा तूने भी

साथ निभाने का वादा तूने भी किया था

साथ निभाने का वादा मैंने भी किया था

तेरा वादा जो टूटा तो फर्क बस इतना था

तूने वादा मुझसे किया था

मैंने वादा खुद से किया था ||

sad shayari kasme wadoon ka kya

Sad Shayari कसमे वादों का क्या करूँ

कसमे वादों का क्या करूँ

जहाँ अलग है हमारे

फिर न तुझे मुझे आबाद करने की चाहत है कोई

न मुझे तुझे बर्बाद करने की हसरत है कोई ||

sad shayari dekh kar kisi ko

Sad Shayari देख के किसी को

देख के किसी को

याद किया किसी को

इश्क़ खता थी किसी की

बर्बाद किया किसी को ||

sad shayari mujhe intzaar tha

Sad Shayari मुझे इंतज़ार था

मुझे इंतज़ार था

मुझे इंतज़ार है

मुझे इंतज़ार रहेगा

तेरे लौट आने तक

या

मेरे जान से जाने तक ||

sad shayari chahate thin bahut

Sad Shayari चाहतें थी बहुत मगर तुमसे

चाहतें थी बहुत मगर तुमसे मैं क्या कहूँ

हसरतें थी बहुत मगर तुमसे मैं क्या कहूँ ||

Miss You Shayari वो वक़्त और था वो बात

वो वक़्त और था वो बात और थी
वो दिन दुसरे थे वो रात और थी

मस्ती भरी पवन थी मदमस्त फूल थे
हर तरफ नूर था हर तरफ मौज थी

वो दिन दुसरे थे वो रात और थी
लेकर उसे चमन में हम घुमते रहते थे

जिस दिन न मिले वो हम ढूँढ़ते रहते थे
उस वक़्त वो उसकी तलाश और थी

वो दिन दुसरे थे वो रात और थी ||